Skip to main content

सहरसा के प्रशांत मे "हंप्टी शर्मा.."

फिल्म हंप्टी शर्मा की दुल्हनियां में हंप्टी दिल्ली का एक बिंदास लड़का है। जो थोड़ा गुंडा, थोड़ा दिलवाला भी है।

फिल्म दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे के 18 साल बाद इससे मिलती जुलती लेकिन नए जमाने की फिल्म है हंप्टी शर्मा की दुल्हनियां।

फिल्म में प्यार के तरीकों को नए अंदाज में पिरोने की कोशिश की गई है। यहां प्यार भी सोशल साइटों के पोस्ट पर होता है, यहां युवा हर चीज फटाफट चाहता है।

फिल्म में दुल्हनियां है काव्या सिंह (आलिया भट्ट) जो थोड़ी गुस्सैल है। जिसकी शादी एक उसके पिता की पसंद के एनआरआई अंगद (सिद्धार्थ) के साथ तय हो जाती है।

काव्या की ये ख्वाहिश होती है कि वह अपनी शादी पर करीना कपूर के जैसा लहंगा पहने। इसके लिए काव्या दिल्ली में शादी का जोड़ा खरीदने के लिए जाती है।

यहां उसकी मुलाकाल हंप्टी (वरूण धवन) से होती है। यहां काव्या आती तो शॉपिंग के लिए है लेकिन हंप्टी को दिल दे बैठती है। फिर क्या दोनों का प्यार दिल्ली की पार्टियों में परवान चढ़ता है।

इसके बाद हंप्टी को काव्या के पिता का दिल जीत कर अपनी दुलहनियां बनाकर लाना है। लेकिन फिल्म के पात्र और कहानी "डीडीएलजी" की तरह आगे नहीं बढ़ती हैं।

लेकिन दिलचस्प मोमेंट्स और हंसाने वाले डायलॉग फिल्म को देखने को उत्सुक करते हैं। फिल्म का संगीत समान्य स्तर का है। फिल्म में आलिया साहसी, स्वाभाविक और बहुत अच्छी लग रही हैं।

वहीं वरूण ने अपने रोल में पूरी क्षमता लगा दी है। उन्होंने हंप्टी के किरदार को किसी भी क्षण कमजोर नहीं होने दिया है। सिद्धार्थ फिल्म में अच्छे दिखे हैं लेकिन उनका कुछ ज्यादा योगदान नहीं है। वो फिल्म में किसी भी समय गायब हो जाते हैं।

फिल्म हंप्टी शर्मा की दुल्हनियां में अच्छा महसूस करने के क्षणों की भरमार है। लेकिन फिल्म में वैसा कुछ भी नहीं है जैसी चाहत युवा अपने दुल्हे और दुलहनियां में रखते हैं।

निर्देशक शशांक खेतान ने अपनी डेब्यू फिल्म से फिल्म "डीडीएजी" को टक्कर देने की कोशिश की है। जिसके पात्र हंप्टी और काव्या हैं। फिल्म दोनों की कैमेस्ट्री बेहद रोचक है। - See more at: http://rajasthanpatrika.patrika.com/article/humpty-sharma-ki-dulhania-review/49772.html#sthash.sN2JOcRX.dpuf
फिल्म हंप्टी शर्मा की दुल्हनियां में हंप्टी दिल्ली का एक बिंदास लड़का है। जो थोड़ा गुंडा, थोड़ा दिलवाला भी है।

फिल्म दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे के 18 साल बाद इससे मिलती जुलती लेकिन नए जमाने की फिल्म है हंप्टी शर्मा की दुल्हनियां।

फिल्म में प्यार के तरीकों को नए अंदाज में पिरोने की कोशिश की गई है। यहां प्यार भी सोशल साइटों के पोस्ट पर होता है, यहां युवा हर चीज फटाफट चाहता है।

फिल्म में दुल्हनियां है काव्या सिंह (आलिया भट्ट) जो थोड़ी गुस्सैल है। जिसकी शादी एक उसके पिता की पसंद के एनआरआई अंगद (सिद्धार्थ) के साथ तय हो जाती है।

काव्या की ये ख्वाहिश होती है कि वह अपनी शादी पर करीना कपूर के जैसा लहंगा पहने। इसके लिए काव्या दिल्ली में शादी का जोड़ा खरीदने के लिए जाती है।

यहां उसकी मुलाकाल हंप्टी (वरूण धवन) से होती है। यहां काव्या आती तो शॉपिंग के लिए है लेकिन हंप्टी को दिल दे बैठती है। फिर क्या दोनों का प्यार दिल्ली की पार्टियों में परवान चढ़ता है।

इसके बाद हंप्टी को काव्या के पिता का दिल जीत कर अपनी दुलहनियां बनाकर लाना है। लेकिन फिल्म के पात्र और कहानी "डीडीएलजी" की तरह आगे नहीं बढ़ती हैं।

लेकिन दिलचस्प मोमेंट्स और हंसाने वाले डायलॉग फिल्म को देखने को उत्सुक करते हैं। फिल्म का संगीत समान्य स्तर का है। फिल्म में आलिया साहसी, स्वाभाविक और बहुत अच्छी लग रही हैं।

वहीं वरूण ने अपने रोल में पूरी क्षमता लगा दी है। उन्होंने हंप्टी के किरदार को किसी भी क्षण कमजोर नहीं होने दिया है। सिद्धार्थ फिल्म में अच्छे दिखे हैं लेकिन उनका कुछ ज्यादा योगदान नहीं है। वो फिल्म में किसी भी समय गायब हो जाते हैं।

फिल्म हंप्टी शर्मा की दुल्हनियां में अच्छा महसूस करने के क्षणों की भरमार है। लेकिन फिल्म में वैसा कुछ भी नहीं है जैसी चाहत युवा अपने दुल्हे और दुलहनियां में रखते हैं।

निर्देशक शशांक खेतान ने अपनी डेब्यू फिल्म से फिल्म "डीडीएजी" को टक्कर देने की कोशिश की है। जिसके पात्र हंप्टी और काव्या हैं। फिल्म दोनों की कैमेस्ट्री बेहद रोचक है। - See more at: http://rajasthanpatrika.patrika.com/article/humpty-sharma-ki-dulhania-review/49772.html#sthash.sN2JOcRX.dpuf

Comments

Popular posts from this blog

सिमरी बख़्तियारपुर में धमाल मचा रहा है ये मोबाइल कम्पनी !!

चाइना मोबाइल को टक्कर देने किफायती दाम पर मेफ मोबाइल सिमरी बख़्तियारपुर, सलखुआ और बनमा बाजार में धमाका मचा रहा है।जानकारों के मुताबिक सेलिंग के मामले में बीते कुछ दिन में ही मेफ मोबाइल ने बड़े ब्रांडों को पसीने छुड़ा चुका है.कम दाम में ज्यादा सुविधाओं के मामले में यह मोबाइल आम लोगो के बीच अपनी मजबूत पकड़ बना रहा है।
  यहां यह बता दे कि कुछ दिन पूर्व ही मेफ कम्पनी के अधिकारियों ने मेफ मोबाइल की सिमरी बख़्तियारपुर में शुरुआत की.इस मौके पर रिटेलर को संबोधित करते हुए मेफ कम्पनी के एएसएम सूरज रॉय ने बताया कि मेफ हमेशा से अपने बेहतरीन प्रोडक्ट के लिए जानी जाती रही है और आगे भी हम ग्राहकों को यह विश्वास दिलाते है कि हमारे प्रोडक्ट आपके दिल को छू लेंगे.

इस मौके पर मेफ के टीएम राहुल कुमार ने बताया कि हम रिटेलर से लेकर ग्राहकों को आश्वस्त कर दे कि सेल और सर्विस के मामले में जल्द ही सिमरी बख़्तियारपुर में पहला स्थान प्राप्त कर लेंगे.
कम्पनी के डिस्ट्रीब्यूटर ने बताया कि वर्तमान में मेफ के बेहतरीन मोबाइल रेंज उपलब्ध है.परंतु सबसे ज्यादा चर्चा गोल्ड, एक्स वन, एक्स फाइव, नेमो, सोलो, लोगन, एलिजेंस, सुपर डीजे,…

टैगोर पब्लिक स्कूल 28 मार्च को मनायेगा वार्षिक समारोह

आयुष

टैगोर पब्लिक स्कूल का वार्षिक समारोह 28 मार्च को मनाया जायेगा. समारोह में रमेश झा महिला कॉलेज के प्रधानाध्यापिका रेणु सिंह बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित होंगी. कार्यक्रम दोपहर दो बजे प्रारंभ होगा.कार्यक्रम के संबंध में स्कुल के डायरेक्टर प्रमोद भगत ने बताया कि टैगोर पब्लिक स्कूल हमेशा से सिमरी बख्तियारपुर में बेहतरीन शिक्षण कार्य के लिए अपनी अलग पहचान रखती है.उन्होंने कहा कि बुधवार चौबीसवे वार्षिक समारोह का आगाज शानदार सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ होगा.इस मौके पर शत्रुघ्न प्रसाद, रवि कुमार, चंदन कुमार, प्रेरणा, नेहा, लकी, कंचन अम्बष्ठ, सीमाब सहित अन्य मौजूद थे.
● टैगोर पब्लिक स्कूल के डायरेक्टर प्रमोद भगत ने बताया कि नये सत्र 2018 - 19 में आपका टैगोर परिवार हार्दिक अभिनंदन करता हैै।
● टैगोर पब्लिक स्कूल में प्री नर्सरी से वर्ग दशम तक की पठन - पाठन की समुचित व्यवस्था है।

CBSE CURRICULUM AN ENGLISH MEDIUM SCHOOL

 विशेषतायें
● होस्टल की व्यवस्था
● कंप्यूटर क्लासेज की व्यवस्था
● लाइब्रेरी की व्यवस्था
● स्मार्ट क्लासेज अर्थात लर्निंग थ्रू ऑडियो और वीडियो
● साप्ताहिक फ्री इंग्लिश स्पोकन क्ल…

सहरसा में हत्या ! पूरी खबर...

बिहार के सहरसा में दिनोंदिन सुशासन की सरकार की धमका खत्म होती जा रही है। इस वजह से अपराध का ग्राफ बढ़ता जा रहा है और हर रोज अपराधी अपराध को घटना को अंजाम गुम हो जा रहे हैं.सोमवार को सहरसा के कोसी चौक पर हथियारों से लैस बदमाशो ने दिनदहाड़े बाइक सवार युवक मोनू सिंह (27) को घेरा और मारपीट करते हुए गोली मारकर हत्या कर दी। हत्या से लोगों का आक्रोश फूट पड़ा और बाजार बंद करा कई जगहों पर सड़क जाम कर दिये। मृत मोनू गौतम नगर में बंफर चौक के पास रहता था। एसपी राकेश कुमार ने कहा कि आपसी विवाद में युवक की हत्या हुई है। इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है।
मृतक के भाई गोलु ने बताया कि वह सोमवार को अपने भाई के साथ बाइक से जा रहा था। इसी दौरान कोसी चौक एटीएम के पास दर्जनों की संख्या में बदमाशों ने घेरकर उसके साथ मारपीट शुरू कर दी। बीच-बचाव के दौरान पहले तो बदमाशों ने उसके भाई मोनू पर लाठी डंडे से हमला कर दिया और उसके बाद गोली मार दी।
गोली मारने के बाद सभी हमलावर भाग गये। गोली लगने से गंभीर रूप से जख्मी मोनू को गांधी पथ स्थित निजी नर्सिग होम ले जाया गया लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। 



 इधर…